आयुर्वेद ने बताया इसमें गुणों की खान

नया लुक डेस्क, नई दिल्ली। गर्मियां शुरू हो गई हैं। ऐसे में लोग ठंडे-ठंडे शरबत पीना शुरू कर देते हैं। अगर आप भी गर्मियां आते ही अपनी डायट में शरबत शामिल करते हैं तो उसमें बेल को शामिल करें। आयुर्वेद में बेल को स्वास्थ्य के लिए काफी लाभप्रद फल माना गया है। आयुर्वेद के अनुसार पका हुआ बेल मधुर, रुचिकर, पाचक तथा शीतल फल है। बेल फल बेहद पौष्टिक और कई बीमारियों की अचूक औषधि है। इसका गूदा खुशबूदार और पौष्टिक होता है। उदर विकारों में बेल का फल रामबाण दवा है। वैसे भी अधिकांश रोगों की जड़ उदर विकार ही है। बेल के फल के नियमित सेवन से कब्ज जड़ से समाप्त हो जाती है। कब्ज के रोगियों को इसके शर्बत का नियमित सेवन करना चाहिए। बेल का पका हुआ फल उदर की स्वच्छता के अलावा आँतों को साफ कर उन्हें ताकत देता है।

मधुमेह रोगियों के लिए बेल फल बहुत लाभदायक है

बेल की पत्तियों को पीसकर उसके रस का दिन में दो बार सेवन करने से डायबिटीज की बीमारी में काफी राहत मिलती है। रक्त अल्पता में पके हुए सूखे बेल की गिरी का चूर्ण बनाकर गर्म दूध में मिश्री के साथ एक चम्मच पावडर प्रतिदिन देने से शरीर में नए रक्त का निर्माण होकर स्वास्थ्य लाभ होता है। गर्मियों के मौसम में आप हर दिन एक गिलास बेल का जूस का सेवन करते हैं तो इसका असर आपको कुछ ही दिनों में दिखाई देना शुरू हो जाएगा। बेल में पाया जाने वाला प्रोटीन, बीटा-कैरोटीन, थायमीन, राइबोफ्लेविन और विटामिन सी बहुत ही गुणकारी है। बेल का प्रयोग कई तरह की दवाओं में भी किया जाता है।
लू से बचाता है
बेल का सबसे पहला फायदा तो यही है कि अगर आप नियमित इसका सेवन करते हैं तो आप पर गर्मियों में लू का असर नहीं होगा। लू लगने से आपको कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं।
एसिडिटी में दे आराम
डिहाइड्रेशन प्रॉब्लम में बेल के जूस को बहुत फायदेमंद माना गया है. आप इसमें गुड़ या चीनी मिलाकर भी पी सकते हैं। अगर आपको अक्सर एसिडिटी की समस्या रहती है तो बेल का जूस पीने से आपकेा इसमें आराम मिलेगा।
खून को करता है साफ
खून साफ नहीं होने पर आपका शरीर कई तरह की बीमारियों से घिर सकता है। मसलन आपको सबसे ज्यादा स्किन प्रॉब्लम की समस्या हो सकती है। ऐसे में बेल का जूस हल्का गुनगुना कर इसमें कुछ बूंद शहद मिलाकर पी लें इससे आपको फायदा मिलेगा।