चोरी के विरोध में एक ही गिरोह के लोगों ने की थी सईद व मोनू की हत्या

  • घटना का राजफाश, सरगना समेत पांच हत्यारोपित गिरफ्तार

ए.अहमद सौदागर
लखनऊ। बीते 11 अक्टूबर 2017 को ई-रिक्शा चालक गोंडा निवासी मोनू पाल व आठ नव बर 2017 को बाराबंकी के सआदतगंज व हालपता मटियारी निवासी हाफिज मो. सईद की हत्या किसी अपने नहीं बल्कि चोरों ने ई-रिक्शा की बैट्री चोरी करने के विरोध पर एक ही गिरोह के पांच लोगों ने की थी। पुलिस का दावा है कि इन लोगों ने सईद की गोली मारकर व मोनू के ऊपर किसी भारी वस्तु से वारकर मौत की नींद सुला दिया था। चिनहट पुलिस ने सर्विलांस सेल व एएसपी उत्तरी की क्राइम टीम की मदद से मंगलवार को दोनों हत्याकांड का राजफाश कर बाराबंकी जिले के सतरिख थाना क्षेत्र स्थित रामपुर जोगा गांव निवासी रिंकू यादव, मुह मदाबाद सतरिख निवासी सुकेश चौहान, चिनहट के मुरलीपुरवा गांव निवासी प्रशांत वर्मा, देवा थाना क्षेत्र के अलीपुर गांव निवासी अनुज व देवा थाना क्षेत्र नरगिशमऊ गांव निवासी अंकेश वर्मा को गिरफ्तार कर किया है। पुलिस को इनके पास से एक तमंचा, एक कार व एक अपाचे मोटरसाइकिल बरामद हुई है।

 यह रहा घटनाक्रम का मामला

एसएसपी दीपक कुमार का कहना है कि इस गिरोह का मास्टर माइंड रिंकू यादव है,जो सतरिख थाना से जिला बदर भी हो चुका है। हत्यारोपितो ने पूछताछ में बताया कि इनका एक संगठित गिरोह है और पहले रैकी करते हैं फिर वारदात को अंजाम देते हैं। पुलिस के सामने अपना जुर्म इकबाल करते हुए हत्यारोपितों ने बताया कि यह लोग 11 अक्टूबर की रात भी मृतक मोनू का रिक्शे से बैट्री चोरी करने की नीयत की तो मोनू ने इसका विरोध किया तो उसकी जान लेने के बाद रिक्शा लेकर भाग निकले थे। बताया गया कि मोनू हत्याकांड में पांच हत्यारोपितों को गिर तार कर कड़ाई से पूछताछ की तो इन लोगों ने चौकीदार मो. सईद की भी हत्या किए जाने की बात स्वीकार की तो पुलिस सन्न रह गई। इंस्पेक्टर चिनहट रवीन्द्र नाथ राय के मुताबिक हत्यारोपितों ने बताया कि आठ नव बर की रात गैराज में खड़े ई-रिक्शा की बैट्री चोरी करने के इरादे से दाखिल हुए कि सईद जाग गए और इसका विरोध किया तो उन्हें गोली मारकर मौत की नींद सुलाने की बात बतायी। फिलहाल पुलिस ने एक ही गिरोह को पकड़कर दोनों सनसनीखेज वारदात का राजफाश करने का दावा किया है।

रिंकू ही नहीं उसका भाई भी है अपराधी

चिनहट पुलिस ने बीते दो जनवरी 2018 को चोरी व लूट की घटनाओं का खुलासा कर रिंकू के भाई दीपू, पंकज व जगदीश को गिर तार कर जेल भेज चुकी है।

 मां व पत्नी को भी जलाकर मार डाला था रिंकू

बताया जा रहा है कि मंगलवार को हत्या के आरोप में पकड़ा गया रिंकू यादव शातिर किस्म का अपराधी है और करीब दो साल पूर्व रिंकू ने अपनी मां व पत्नी को भी जलाकर बेरहमी से मार डाला था। सूत्र बताते हैं कि इसके बाद रिंकू ने दूसरी शादी बाराबंकी जिले के देवा थाना क्षेत्र स्थित खेवली गांव से की है।

 पहचान गए थे रिंकू को मृतक सईद?

चिनहट कोतवाली से चंद कदमों की दूरी पर स्थित गैराज में आठ नव बर की रात जैसे ही बदमाशों ने चोरी की नियत से दाखिल हुए तो गैराज की रखवाली कर रहे मो.सईद जाग गए थे और हत्यारोपित रिंकू को पहचान गए थे? सूत्रों की मानें तो हत्यारोपित रिंकू का पहले से ही गैराज में आना-जाना था,जिसे लेकर मृतक सईद उसे बखूबी पहचानते थे,लेकिन रिंकू के किसके साथ गैराज में आता था यह बात फिलहाल चिनहट पुलिस बताने के लिए कतरा रही है।

 ये रहे पुलिस टीम में शामिल,एसएसपी ने सराहा

इंस्पेक्टर चिनहट रवीन्द्र नाथ राय, एएसआई भानु प्रताप सिंह, दरोगा राम बहादुर पाल इसके अलावा क्राइम टीम में दरोगा अभिषेक तिवारी, कांस्टेबिल देवकी
नन्दन,सुदर्शन पाठक, रोहित कुमार पाल, वीरपाल यादव, अरूण कुमार सिंह, सोमल पासवान, देवमणि यादव, अशोक कुमार पिश्रा, सत्यजीत, दिलशाद, रमाशंकर, अफसार आलम, गोविन्द,नौशाद अहमद व अमित को एसएसपी दीपक कुमार ने सराहना करते हुए टीम को इनाम देने की घोषणा की है।