दुनिया जानती है भगवान राम की जन्मभूमि कहां है— वसीम रिजवी

नया लुक संवाददाता, अयोध्या। शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी आज अयोध्या में राम जन्मभूमि कार्यशाला पहुंचे, जहां मंदिर के लिए पत्थरों को तराशने का काम चल रहा है। वसीम रिजवी ने यहां पत्थर तराशने के लिए 10 हजार रुपये का चंदा भी दिया। साथ ही कहा कि जरूरत हो तो मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाया जाए। राम मंदिर का पुरजोर समर्थन करते हुए उन्होंने कहा कि राम मंदिर अयोध्या में नहीं तो क्या सऊदी अरब में बनेगा? रिजवी ने कहा कि मुसलमानों के लिए मुकदमा जीतने से ज्यादा जरूरी है कि करोड़ों हिंदू भाइयों का दिल जीता जाए।
उन्होंने कहा कि राम मंदिर का निर्माण अयोध्या में ही होना चाहिए। अयोध्या भगवान राम की जन्मभूमि है। यहां मस्जिद की कोई जरूरत नहीं। वसीम रिजवी रविवार को अयोध्या पहुंचे थे। राम मंदिर निर्माण के लिए दस हजार रुपए दान देने के साथ उन्होंने महंत नृत्यगोपाल दास से आशीर्वाद भी लिया।
रिजवी ने कहा कि कुछ मुसलमानों की रोजी-रोटी राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद विवाद से चल रही है, वे हिंदुस्तान में आग लगाने का ख्वाब देख रहे हैं। इनको पाकिस्तान से फंडिंग दी जा रही है। वे नहीं चाहते हैं कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो, लेकिन सेक्युलर मुसलमान मंदिर मस्जिद के नाम पर खून-खराबा नहीं चाहता है। मुस्लिम समाज को संदेश देते हुए रिजवी ने कहा कि एक मुकदमा जीतने से बेहतर है कि करोड़ों राम भक्तों के दिलों को जीता जाए।