पाक राष्ट्रपति से गर्मजोशी से मिले नरेंद्र मोदी

नया लुक डेस्क, नई दिल्ली। सीमा पर अशांति के माहौल के बीच चीन के किंगदाओ में चल रहे शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पाकिस्तान के राष्ट्रपति ममनून हुसैन के साथ हाथ मिलाए और थोडी देर तक बातचीत भी की। दोनों नेता 18 वें एससीओ शिखर सम्मेलन में शिरकत करने के लिए चीन में हैं। बता दें कि पहली बार दोनों देश पूर्णकालिक सदस्य के तौर पर इस सम्मेलन का हिस्सा बने हैं। इस सम्मेलन में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भी मौजूद थे। पाक राष्ट्रपति ने पुतिन से भी हाथ मिलाया। जिसके बाद पीएम मोदी रूसी राष्ट्रपति के साथ ही वहां से निकल गए।
पीएम मोदी ने शिखर सम्मेलन की सफलता के लिए पूरा सहयोग देने की बात कही। उन्होंने सभी का ध्यान इस ओर भी खींचा कि एससीओ देशों से केवल 6 पर्यटक ही भारत आते हैं। इस संख्या को दोगुना किया जा सकता है। पीएम ने कहा “हमारी साझा संस्कृति को लेकर जागरुकता बढ़ाने से यह संख्या बढ़ सकती है। हम भारत में एससीओ फूड फेस्टिवल और बौद्ध महोत्सव का आयोजन करेंगे।
शंघाई सहयोग संगठन की शिखर वार्ता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद की समस्या पर प्रमुखता से अपनी बात रखी। उन्होंने पड़ोसी देशों के सामने अफगानिस्तान का जिक्र किया। पीएम ने कहा “आतंक के असर का अफगानिस्तान एक दुर्भाग्यपूर्ण उदाहरण है मुझे उम्मीद है कि क्षेत्र में राष्ट्रपति अशरफ गनी के द्वारा शांति के लिए उठाए गए कदमों का सभी सम्मान करेंगे”।