फर्जी बाप बन कन्या विद्या धन का लाभ दिलवाना पड़ा मंहगा हुई जेल

आर्य विद्या प्रसार के वरिष्ठ सदस्य पर हुई कार्यवाही
2004/05 में अपने रिश्तेदार की बेटियों को अपनी बेटी बना लिया गया था लाभ
जालसाज़ी व फर्जी दस्तावेज मामले में जिला विद्यालय निरीक्षक के निर्देश पर दर्ज हुआ  मुकदमा

महराजगंज।ठूठीबारी स्थित आर्य विद्या प्रसार समिति के वरिष्ठ सदस्य रामनारायण सिंह पुत्र केहर सिंह निवासी ठूठीबारी टोला धरमौली को सन 2004-05 में तत्कालीन सरकार द्वारा लागू कन्या विद्याधन योजना के तहत फर्जी बाप बन लाभ लिए जाने व फर्जी दस्तावेजों को लगाए जाने को लेकर स्थानीय कोतवाली में जिला विद्यालय निरीक्षक के निर्देश पर जालसाजी व कूटरचित दस्तावेजों के मामले में मुकदमा पंजीकृत किया गया था। जिसपर आरोपी अग्रिम जमानत पर चल रहा था। माननीय न्यायालय द्वारा अग्रिम जमानत खारिज़ किये जाने के बाद अब उसे जेल भेज दिया गया।


मिली जानकारी के अनुसार सपा शासन काल 2004-05 मे लागू कन्या विद्याधन योजना के तहत क्रमशः कु. गीता सिंह व कु. जानकी सिंह पुत्रीगण रामनारायण सिंह पुत्र केहर सिंह निवासी ठूठीबारी टोला धरमौली को लाभ दिया गया था। जिसकी जांच में यह खुलासा हुआ कि उक्त दोनों ही छात्राएं रामनरायण सिंह की पुत्रियां नही बल्कि उनके रिश्तेदार की पुत्रियां है। इस खुलासा के बाद जिला विद्यालय निरीक्षक महराजगंज के निर्देश पर मातहत के द्वारा स्थानीय कोतवाली में भा.द.वि. की धारा 419, 420, 467, 468 सहित अन्य धाराओं में मुकदमा पंजीकृत किया गया था। जिसपर आरोपी द्वारा माननीय न्यायालय से अग्रिम जमानत ली गई थी। जिसे जिला सत्र न्यायालय द्वारा ख़ारिज करते हुए आरोपी को जेल भेज दिया गया। इस बावत जब आरोपी के परिजनों से मिला गया तो उनका कहना था कि इतने पुराने मामले को अब उजागर कराया गया है। यह एक साजिश के तहत कराया गया है। कन्या विद्या धन का लाभ तो लड़कियों को ही मिला है। योजना का पैसा भी सम्बन्धित बच्चियों के बैंक खाता में आया है। वही प्रभारी निरीक्षक कोतवाली ठूठीबारी ने बताया कि स्थानीय कोतवाली में उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज था।