भारत-नेपाल के गंभीर प्रयास से थमेगा बाढ़ त्रासदी- हृदयेश त्रिपाठी

  • दो दिन के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों दौरा करने के बाद किया प्रेस वार्ता
  • बड़ी भन्सार के नाम पर कुछ नेता कर रहे राजनीति 

नया लुक संवाददाता, नवलपरासी। नेपाल के तराई क्षेत्रों में बाढ़ की गंभीर होती समस्या को लेकर नवलपरासी प्रतिनिधि सभा 1 सांसद व पूर्व मंत्री हृदयेश त्रिपाठी ने दो दिन बाढ़ग्रस्त क्षेत्रो का दौरा करने के बाद कहां कि इस समस्या का समाधान तभी सम्भव है जब नेपाल व भारत दोनों ही इसपर गम्भीर हो।
नवलपरासी में प्रेस वार्ता के दौरान बातचीत में पूर्व मंत्री व सांसद हृदयेश त्रिपाठी ने बताया कि अतीत में हुए बँधो के कार्यो को समुचित तरीके से नही किये जाने के कारण हर वर्ष आम जनता को बाढ़ की त्रासदी झेलनी पड़ती है। इस गंभीर होती समस्या पर नेपाल व भारत दोनों को गंभीर हो इसका समाधान कराना होगा अन्यथा आने वाले दिनों में इसका प्रभाव और भी व्यापक हो जाएगा।

हम अपने स्तर से अपने क्षेत्र की जनता के हुए नुकसान के लिए सम्बन्धित मंत्रालय व विभाग से बात करेंगे। वही महेशपुर स्थित छोटी भन्सार को बड़ी भन्सार की मान्यता मिलने पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उन्होंने कहां कि 9 वर्ष पूर्व ही इसकी आधारशिला मेरे ही मंत्री रहते हुये रखी गयी थी। अब जब मेरी ही सरकार के द्वारा बड़ी भन्सार का निर्णय लिया गया और भन्सार को आत्मनिर्भर बनाने की योजना पर काम किया जा रहा है तो विभिन्न राजनीतिक दलों के लोग इसका श्रेय लेने की होड़ में लगे हुए है, जनता को सब मालूम है। उसी दौरान कस्टम ईम्प्रोभमेन्ट प्रोजेक्ट के अन्तर्गत मुल भन्सार का काम शुरु करने के बावत 74 करोड रुपये का प्रावधान किया गया था पर सड़क अभाव के कारण इस पर प्रगति नही हो सकी।