भारत में क्रिप्टोकरेंसी के जरिए अब कमाई का रास्ता हुआ बंद

नया लुक डेस्क, नई दिल्ली। क्रिप्टोकरंसी ट्रेडिंग के जरिए पैसा कमाने की जुगाड़ में लगे लोगों के लिए एक बड़ा झटका है। बिटकॉइन के जरिए अब कमाई का रास्ता बंद हो गया है। भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से भारतीय बैंकों को दुनिया के किसी भी क्रिप्टोकरंसी एजेंसी के साथ संबंध खत्म करने की दी गई मियाद 5 जुलाई को खत्म हो गई। आरबीआई के आदेश के बाद भारत में जेबपे समेत सभी बिटक्वाइन एक्सचेंजों ने रुपये में कारोबार बंद कर दिया है।
बिटकॉइन रखने वालों को अब एक्सचेंज पर ही खरीदारों की तलाश करनी होगी यानी कि आगे से इसके लिए कालाबाजारी करनी होगी और ब्लैक मार्केट में अपने ग्राहक तलाशने होंगे। भले ही बिटकॉइन की कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में ज्यादा हो लेकिन भारत में इसके आधार पर कोई कर्ज नहीं मिलेगा। यहां तक की कॉरपोरेट अकाउंट भी नहीं खोला जा सकेगा।
बता दें कि बिटकॉइन और अन्य क्रिप्टो करेंसी को लेकर रिजर्व बैंक वर्ष 2013 से ही निवेशकों को अगाह करता रहा है। आरबीआई यह कह चुका है कि देश में इसको मान्यता नहीं है और ऐसे में इसमें कमाई डूबने पर निवेशक खुद जिम्मेदार होंगे। दिसंबर में देश में आयकर विभाग ने कई बिटकॉइन एक्सचेंजो पर छापा भी मारा था।

क्या है बिटकॉइन
यह एक क्रिप्टो करेंसी (आभाषी मुद्रा) है। इसकी खरीद-बिक्री इंटरनेट के जरिए आईडी-पासवर्ड के जरिए की जाती है। इसे किसी भी करेंसी में नहीं बदला जा सकता है। आईडी-पासवर्ड भूल जाने या हैक होने पर पूंजी डूबने का भी खतरा है।