राममंदिर का मुद्दा कांग्रेस के सिर पटक बैठे पीएम मोदी

अपने वकीलों के जरिए न्याय प्रक्रिया में बाधा डाली रही कांग्रेस-मोदी 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर वकीलों के माध्यम से अयोध्या मामले में अदालती प्रक्रिया में बाधा डालकर फैसले में देरी कराने का आरोप लगाया है। राम मंदिर के संदर्भ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अयोध्या विषय में कांग्रेस अपने वकीलों के माध्यम से न्याय प्रक्रिया में बाधा पहुंचाने की कोशिश कर रही है। कांग्रेस नहीं चाहती की अयोध्या विषय का हल आए। कांग्रेस का ये रवैया किसी को भूलना नहीं चाहिए ।

मोदी ने रामलीला मैदान में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन को संबोधित करते हुये कहा कि कांग्रेस अपने वकीलों के माध्यम से न्याय प्रक्रिया में बाधा पहुंचाने की कोशिश कर रही है। कांग्रेस नहीं चाहती कि अयोध्या विषय का हल आये।” उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के खिलाफ महाभियोग लाने का भी प्रयास किया था ताकि इस मामले में फैसले में देरी हो। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं से कहा “आपको कांग्रेस का यह रवैया भूलना नहीं है और किसी को भूलने भी नहीं देना है।

सरकार पर भ्रष्टाचार का एक भी नहीं आरोप

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को कहा कि देश के इतिहास में पहली बार ऐसी सरकार है जिस पर भ्रष्टाचार के आरोप नहीं है, देश विकास के मंत्र के आधार पर आगे बढ़ रहा है, साथ ही उन्होंने देश के विकास, सुरक्षा, गरीब कल्याण, किसान हित के लिये आने वाले चुनाव में देश में ‘मजबूत सरकार चुनने की वकालत की।

किसानों के लिए मजबूत सरकार

प्रधानमंत्री ने कहा कि जब हम किसानों की समस्या के समाधान की बात करते हैं तो पहले की सच्चाइयों को स्वीकार करना जरूरी है। पहले जिनके पास किसानों की समस्याओं का हल निकालने का जिम्मा था, उन्होंने शॉर्टकट निकाले, उन्होंने किसानों को सिर्फ मतदाता बना रखा। उन्होंने कहा, ”हम अन्नदाता को ऊर्जादाता भी बनाना चाहते हैं । हमारी सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को न सिर्फ लागू किया बल्कि यह भी सुनिश्चित किया कि किसानों को एमएसपी का डेढ़ गुना दाम मिले।

अभी भी बहुत कुछ करना बाकी…

रामलीला मैदान में भाजपा की राष्ट्रीय परिषद की बैठक के समापन सत्र को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि वे यह नहीं कहते कि सभी लक्ष्य पूरे कर लिये गए हैं, अभी भी बहुत कुछ करना है । लेकिन वह कहना चाहते हैं कि उन्होंने कमियों को दूर करने का ईमानदारी से प्रयास किया है। चुनौतियां चाहे जितनी भी बड़ी हो, प्रयास उतने ही ईमानदार होंगे। कोशिशों में कोई कमी नहीं होगी।

मोदी ने कहा कि सामान्य श्रेणी के गरीब युवाओं को शिक्षा और सरकारी सेवाओं में 10% आरक्षण नए भारत के आत्मविश्वास को आगे बढ़ाने वाला है । ये सिर्फ आरक्षण नहीं है बल्कि एक नया आयाम देने की कोशिश है। उन्होंने कहा कि आज के युवा को पता है कि उसकी आवाज सुनी जा रही है। वह जानता है कि उसके देश की शान मजबूत हो रही है। वह जानता है कि देश की आर्थिक और सामरिक हैसियत मजबूत हो रही है। प्रधानमंत्री ने जोर दिया कि पहले से जिनको आरक्षण की सुविधा मिल रही थी उनके हक़ को छेड़े बिना, छीने बिना भाजपा सरकार द्वारा सामान्य वर्ग को 10% आरक्षण का प्रावधान किया गया है ।