लहूलुहान करने के बाद तोड़ा हाथ

  • बीकेटी तहसील के बाहर हुई घटना
  • सिर व शरीर पर गंभीर चोंटे
  • जान से मारने की दी धमकी कहा नौकरी से निलवा दूंगानया लुक रिपोर्टर
    लखनऊ। राजधानी लखनऊ में एक ओर जहां अपराधियों का आंतक तो दूसरी तरफ दबंगों का कहर भी बरकरार है,जो थमने का नाम नहीं ले रहा है। बीकेटी तहसील के बाहर सोमवार की देर शाम रिकार्ड रूम की चाभी न देने पर लेखपाल तुसार सिंह ने संग्रह सेवक रामधनी जायसवाल को तहसीलकर्मियों के सामने ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। वह अपनी जान बचाने के लिए दबंग लेखपाल के सामने गिडगिड़ाता रहा,लेकिन उसका कहर थम नहीं रहा था। पीडि़त संग्रह सेवक का दाहिना हाथ तोडऩे के बाद सिर व शरीर पर कई जगह चोट पहुंचा कर जान से मारने की धमकी देकर मौके से भाग निकला। तहसील के सामने हुई इस घटना से वहां हडक़ंप मच गया। खास बात यह रही कि दबंग लेखपाल संग्रह सेवक को पीटता रहा, लेकिन आसपास में मौजूद लोग छुड़ाने की हि मत नहीं जुटा पा रहे थे। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस मामले की छानबीन कर लौट गई,लेकिन घायल को अस्पताल में भर्ती नहीं करा सकी। पीडि़त ने मंगलवार को अफसरों को प्रार्थना पत्र देकर न्याया की गुहार लगाई।
    बीकेटी तहसील में संगह सेवक के पद पर कार्यरत रामधनी जायसवाल ने पुलिस अफसरों को दी गई तहरीर में बताया कि वह सोमवार की शाम करीब 7.50 पर तहसील के बाहर खड़े थे कि इसी दौरान बीकेटी तहसील में तैनात लेखपाल तुसार सिंह उनके पास पहुंचा और रिकार्ड रूम की चाभी मांगने लगा। पीडि़त का कहना है कि जैसे वह चाभी देने से मना किया तो दबंग लेखपाल उनके ऊपर कहर बनकर टूट पड़ा और लात-घुसों से जमकर पीटा। यही नहीं जब इससे भी मन नहीं भरा तो लेखपाल तहसील के बाहर सडक़ पर दौड़ा-दौडा़ कर पीटने के संगह का दाहिना तोड़ दिया,जिससे वह वहीं गिर गए,लेकिन इसके बावजूद भी वह संग्रह की शरीर पर हमला बोलता रहा। संग्रह की चीख-पुकार सुनकर तहसील परिसर में मौजूद कर्मचारी बाहर आए,लेकिन दबंग लेखपाल के आतंक के आगे वे कुछ बोलने की हि मत नहीं जुटा पा रहे थे,लिहाजा किसी तरह संगह को उसके चंगुल से बचाया। बताया गया कि हाथ तोडऩे के बाद लेखपाल ने कहा कि यह तो कम सजा दिया हूं अगर अधिक बोला तो नौकरी से भी निकलवा दूंगा। पीडि़त द्वारा दी गई तहरीर से यही लग रहा है कि तुसार लेखपाल है या फिर कोई… यह भी बताया जा रहा है कि लेखपाल के आगे बीकेटी तहसीलदार भी कुछ बोलने की हि मत नहीं जुटा पा रहे हैं।
    फिलहाल दबंग लेखपाल के कहर से निजात पाने के लिए पीडि़त संग्रह ने पुलिस अफसरों को तहरीर देकर न्याय की गुहार लगाई है। वहीं इंस्पेक्टर बीकेटी का कहना है कि इस मामले में गंभीरता से जांच पड़ताल की जा रही है और दोषी पाए जाने पर किसी भी सूरत में लेखपाल को नहीं ब शा जायेगा।